Ummid Shayari Collection Hindi

Ummid Shayari Collection Hindi

Ummid Shayari Collection Hindi


Suna Hai Hamne Bhi Ummid Pe Jeeta Hai Jamana,
Kya Kare Woh, Jiski Koi Ummid Hi Na Ho.

सुना है हमने भी उम्मीद पे जीता है जमाना,
क्या करे वो जिसकी कोई उम्मीद ही न हो।

Tha Yakeen Mujhe Bhi Ki Bhool Jaoge Tum,
Khushi Hai Ki Tum Ummid Par Khare Utre.

था यकीं मुझे भी कि भूल जाओगे तुम,
खुशी है कि तुम उम्मीद पर खरे उतरे।

Ummid Shayari Collection Hindi
Is Dil Ki Ummidon Ka Hausla To Dekho Dosto,
Intzaar Bhi Usaka Hai Jise Mera Ehsaas Tak Nahin.

इस दिल की उम्मीदों का हौसला तो देखो दोस्तो,
इंतज़ार भी उसका है जिसे मेरा एहसास तक नहीं।

Hajaro Ummiden Bandhti Hain, Ek Nigaah Par,
Mujhako Na Aise Pyaar Se... Dekha Kare Koi.

हजारो उम्मीदें बंधती हैं, एक निगाह पर,
मुझको न ऐसे प्यार से... देखा करे कोई।
 
Pata Hai Main Hamesha Khush Kyon Rahta Hoon ? Kyuki Main
Khud Ke Siva Kisi Se Koi Ummid Nahin Rakhta.

पता है मैं हमेशा खुश क्यों रहता हूँ ? क्योंकि मैं
खुद के सिवा किसी से कोई उम्मीद नहीं रखता।

Door Ho Ke Tumase Zindagi Saza Si Lagti Hai,
Yah Saanse Bhi Jaise Mujhse Naraaj Si Lagti Hain,
Sihir Uthta Hoon Main Dard Ke Maare,

Ummid Shayari Collection Hindi


Ummid Shayari Collection Hindi
Zakhmon Ko Jab Tere Shahar Ki Hava Lagti Hai,
Agar Ummeed-E-Vafa Karoon To Kis Se Karoon,
Mujh Ko To Meri Zindagi Bhi Bewafa Lagti Hai.

दूर हो के तुमसे ज़िंदगी सज़ा सी लगती है,
यह साँसे भी जैसे मुझसे नाराज सी लगती हैं,
सिहिर उठता हूँ मैं दर्द के मारे,
ज़ख्मों को जब तेरे शहर की हवा लगती है,
अगर उम्मीद-ए-वफ़ा करूँ तो किस से करूँ,
मुझ को तो मेरी ज़िंदगी भी बेवफ़ा लगती है।

Abhi Tak Hai Uske Laut Ke Aane Ki Ummid,
Abhi Tak Thahri Hai Zindagi Apni Jagah,
Laakh Ye Chaaha Ki Use Bhool Jaoon Par,
Haunsle Apni Jagah Bebasi Apni Jagah.

अभी तक है उसके लौट के आने की उम्मीद,
अभी तक ठहरी है ज़िंदगी अपनी जगह,
लाख ये चाहा कि उसे भूल जाऊं पर,
हौंसले अपनी जगह बेबसी अपनी जगह।

Ummid Shayari Collection Hindi


Ummid Shayari Collection Hindi
Beete Dinon Ki Bhooli Huyi Baat Ki Tarah,
Aankhon Mein Jaagta Hai Koi Raat Ki Tarah,
Usse Ummid Thi Ki Nibhaega Saath Wo,
Wo Bhi Badal Gaya Mere Halaat Ki Tarah.

बीते दिनों की भूली हुई बात की तरह,
आँखों में जागता है कोई रात की तरह,
उससे उम्मीद थी की निभाएगा साथ वो,
वो भी बदल गया मेरे हालात की तरह।

Post a Comment

0 Comments